मनरेगा में गड़बड़ी जांचने केंद्र से आएगी टीम , जाने पूरी जानकारी

मनरेगा में गड़बड़ी जांचने केंद्र से आएगी टीम

कई आला अधिकारी टीम में शामिल, तकनीकी रूप से होगी कार्य और फण्डिंग की जांच केंद्र सरकार ने छत्तीसगढ़ में मनरेगा के क्रियान्वयन पर सवाल उठाए हैं। अधिकारियों की टीम गठित कर जांच के भी आदेश दिए हैं जिसे लेकर हड़कंप मच गया है। प्रदेश के 15 जिलों में 25 अगस्त को टीमें जांच के लिए पहुंच सकती हैं। इस दौरान प्रधानमंत्री आवास और प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना की भी जांच होगी।

इन दिनों प्रदेश के पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग में हलचल मची हुई है। इसकी वजह केंद्र सरकार के ग्रामीण विकास मंत्रालय की एक चिट्ठी है। इसमें मनरेगा के क्रियान्वयन पर गंभीर सवाल उठाए गए हैं। पत्र में कहा गया है कि यह मॉनिटरिंग विजिट ग्रामीण क्षेत्रों में किए गए विकास कार्यों को लेकर है। फोकस में मनरेगा, पीएमवाय और पीएमजीएसवाय होंगे। हाल ही में स्पेशल नेशनल लेवल मॉनिटर्स ने छग के कई जिलों का दौरा किया था। इस दौरान पाया गया कि मनरेगा के कामों लेबर की जगह मशीनों से काम लिया गया। एक ही परिवार में दो जॉब कार्ड भी मिले। ऐसी गड़बड़ियों के बाद केंद्र सरकार ने महसूस किया कि कुछ जिलों में जांच होनी चाहिए।

सितंबर में रिपोर्ट सबमि

केंद्र सरकार ने छग में मनरेगा के कार्यों में कई तरह की गड़बड़ियां मिलने पर ग्राउंड लेवल पर जाकर जांच का आदेश दिया है। रायगढ़ के लिए भेजी गई जांच टीम में तीन सदस्य हैं। टीम अपनी रिपोर्ट 1 सितंबर तक जमा करेगी। पिछले दिनों छग के पंचायत मंत्री टीएस सिंहदेव के इस्तीफे के बाद विभाग के कामकाज पर कई सवाल उठे थे इस बीच केंद्र की टीमों ने सरसरी तौर पर जांच भी की थी जिसमें कुछ संदेहास्पद कार्यशैली सामने आई थी।

इन जिलों में होगी जांच

केंद्र सरकार ने प्रदेश के सभी जिलों में जांच करवाई थी। जो फीडबैक मिला, उसके हिसाब से विस्तृत जांच करने का आदेश दिया है। सबसे खास बात यह है कि टीम किस पंचायत में जाएगी, यह किसी को पता नहीं है। राजनांदगांव रायगढ़, रायपुर, दुर्ग, बलौदा बाजार, सुकमा, कवर्धा, बलरामपुर, धमतरी,

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.