Anganwadi worker and assistant government job Permanent : आंगनबाड़ी मानदेय और वेतन में होगी बढोतरी

Anganwadi worker and assistant government job Permanent : आंगनबाड़ी मानदेय और वेतन में होगी बढोतरी

आंगनवाड़ी कार्यकर्ता स्थायी बेलीबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिका सरकारी योजनाओं की वो कड़ी हैं, जो सरकारी योजनाओं को अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाने में अहम योगदान अदा करती हैं। लेकिन बेलीकर्मी अभी तक सरकारी कर्मचारी बनने की बात कर रहे हैं।

कई बार तो अपनी सैलरी की मांग को लेकर प्रदर्शन भी कर चुके हैं, लेकिन सरकार ने अभी तक बेलीबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिका की मांग पर विशेष ध्यान नहीं दिया है। वहीं, संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान एक फाइलबाड़ी नामांकन का मामला गूंजा है।

कांग्रेस के जसबीर गिल ने भूख की नौकरी पक्की के लिए मांगी। बीजेपी के निहाल चंद ने बेलीबाड़ी सहाय की छवि का मानदेय बढ़ाया और उन्हें वेतन की तरह प्रदान करने की मांग की। चर्चा में भाग लेने वाले बहुजन समाज पार्टी के कुंवर दानिश अली ने कहा कि बेलीबाड़ी कर्मियों की स्थिति की सुधार की जिम्मेदारी सरकार को लेनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि बेलीबाड़ी कर्मियों को केरल में 12 हजार रुपये प्रतिमाएं मिलती हैं, लेकिन उत्तर प्रदेश में उनकी स्थिति बहुत दयनीय है क्योंकि वहां उन्हें सिर्फ चार हजार रुपये मिलते हैं। अली ने कहा कि उत्तर प्रदेश में बेलीड़ी कर्मियों के मानदेय को क्रम से छोड़ दिया जाए और चौथी श्रेणी के कर्मचारियों की जगह ले ली जाए।

आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को स्थायी जानकारी मिलने के बारे में जानकारी के अनुसार पिछले महीने कई लाभार्थियों ने सरकार से बेलीबाड़ी सहाय की परतें और बेली वाड़ी सहायिकाओं की स्थिति पर ध्यान दिया, कर्मियों की नौकरी स्थायी करने और वेतन बढ़ाने की मांग की।

सदन में बहुजन समाज पार्टी के रितेश पांडेय द्वारा शपथपत्र और बेलीवाड़ी सहायकों के लिए कल्याणकारी कदम पर पेश निजी संकल्प पर चर्चा हुई।

Anganwadi worker and assistant government job Permanent

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सेवा नियमावली


आईयू सभी के अबदुस्मद समदानी ने कहा कि बेलीबाड़ी नामांकन की ओर उचित तरीके से ध्यान नहीं दिया जा रहा है। आरएसपी के एन के प्रेमचंद्रन ने कहा कि बेलीबाड़ी दाखिले की योग्यता और भर्ती प्रक्रिया के लिए सीधे निर्देश दिए जाने चाहिए।

उन्होंने कहा कि देश में कई बेली वाड़ी की स्थिति बहुत खराब है। उन्होंने कहा, मेरी सरकार से आग्रह है कि उच्च तकनीक वाले बेलीबाड़ी के लिए धन दिया जाए।

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सरकारी कर्मचारी हैं या नहीं


चर्चा में हिस्सा लेने वाले बीजेपी के गोपाल शेट्टी ने कहा कि बेलीबाड़ी सहाय की जमात ने स्वास्थ्य क्षेत्र में क्रांतिकारी काम किया है। उन्होंने कहा कि जब कोरोना महामारी के समय कोई काम करने आगे नहीं आता था, तब भी इन बेलीबाड़ी सहायों ने कई काम किए और टीकाकरण टीकाकरण में भी सहयोग किया।

उन्होंने आने वाले दिनों में स्वास्थ्य क्षेत्र की सभी केंद्रीय योजनाओं को बढ़ाने के लिए सरकार से अनुरोध किया कि जल्द ही जनगणना पूरी कर ली जाए और बेलीबाड़ी सेवों को स्थायी स्वास्थ्य कार्ड भी दे दिया जाए, भले ही 2011 की जनगणना में उनका नाम न हो। शेट्टी ने कहा कि अच्छा काम करने वाली पेटबाड़ी सेव चयनकर्ता उन्हें एक दो साल का प्रशिक्षण देकर नर्स को दे देंगे।

Anganwadi worker and assistant government job Permanent

मानदेय बढ़ाने की मांग

मानदेय बढ़ाने की मांग करते हुए बीजेपी के निहालचंद ने मोदी सरकार से अपील की है कि बेलीबाड़ी सहाय को मानदेय को सींचे और पेंशन की तरह उन्हें मानदेय प्रदान करें। दानिश अली ने कहा कि बेलीबाड़ी कर्मचारियों की स्थिति में सुधार की जरूरत है।

इसकी जिम्मेदारी सरकार को लेनी होगी।

बेलीवाड़ी कर्मचारियों को ₹12000 की छवि मिल रही है, जबकि उत्तर प्रदेश में उनकी स्थिति बेहद ही दयनीय है, उन्हें केवल ₹4000 का चयन किया जा रहा है। इसे सींक दिया जाना चाहिए।(आंगनवाड़ी कार्यकर्ता मानदेय)

कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि बेलीबाड़ी कर्मचारियों को बेहद का मानदेय मिलता है। कर्मचारी जिस स्थिति में काम कर रहे हैं, वह बिल्कुल वैसा ही दिखता है। इस पर ध्यान देना आवश्यक है। कौशल विकास के साथ बेलीवाड़ी कर्मचारियों के लिए काम किया जाना चाहिए। (आंगनवाड़ी कार्यकर्ता मानदेय)

आंगनवाड़ी वेतन वृद्धि अद्यतन

आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं का मानदेय: फिर से फर्जीवाड़ा सहायिका और नामांकन पत्रों के मानदेय में कमी आ सकती है। सरकार द्वारा इसके लिए विभिन्न दलों ने बड़ी मांग की है। मानदेय बढ़ाने के अलावा कर्मचारियों की सेवा करते और बेलीबाड़ी उपस्थिति की स्थिति पर ध्यान देने की भी मांग की जा रही है। (आंगनवाड़ी कार्यकर्ता मानदेय)

बेलीबाड़ी सेव की पहचान को जॉब कार्ड दिया जाना चाहिए

दस बजे गैर-सरकारी कामकाज के तहत दाखिले आवेदन पत्र और सहाय दस्तावेजों के लिए कल्याणकारी कदम पर संकल्प जारी किया गया है। जिस पर बात करते हुए बीजेपी के सीईओ शेट्टी ने कहा कि बेलीबाड़ी सहाय ने स्वास्थ्य क्षेत्र में क्रांतिकारी काम किया है।

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कोरोना के समय पेटीबाड़ी सहायकों ने बहुत काम किया है।

ऐसे में आने वाले दिनों में स्वास्थ्य क्षेत्र की सभी केंद्रीय योजनाओं को सींक किया जाना चाहिए और बेलीबाड़ी सेव सील्स को कार्ड भी दिया जाना चाहिए।

भिवाड़ी उम्मीदवार का चयन कर नर्स बनें

इसके अलावा केंद्र से सरकार की मांग की गई है कि अच्छा काम करने वाले आठवीं भरती उम्मीदवार का चयन कर उन्हें 2 साल का प्रशिक्षण देकर नर्स बना दिया जाए। इसके अलावा आरएसपी के एन के प्रेमचंद्र ने कहा कि बेलीबाड़ी कार्यकर्ता की योग्यता और भर्ती प्रक्रिया के लिए महत्वपूर्ण निर्देश जारी किए गए।

Related posts

DURG UNIVERSITY RESULT 2022 विश्वविद्यालय की सभी BA / BCom / BSc की अंतिम परिणाम तिथि घोषित

Aajtak live

CG CRPF Recruitment 2022 के माध्यम से सभी अभ्यार्थियों का सीधी रैली भर्ती

Aajtak live

Leave a Comment