आचार्य चाणक्य की जीवन शैली कि घटना,चाणक्य का जन्म दांतों के पूरे सेट के साथ हुआ

आचार्य चाणक्य की जीवन शैली कि घटना,चाणक्य का जन्म दांतों के पूरे सेट के साथ हुआ

चाणक्य का जन्म चानिन और चनेश्वरी नाम के दो जैन (श्रावक) से हुआ था। उनका जन्मस्थान गोला विषय (क्षेत्र) में चाणक गांव था। “गोल्ला” की पहचान निश्चित नहीं है, लेकिन हेमचंद्र कहते हैं कि चाणक्य एक ड्रामिला थे, जिसका अर्थ था कि वह दक्षिण भारत के मूल निवासी थे।चाणक्य का जन्म दांतों के पूरे सेट के साथ हुआ था। भिक्षुओं के अनुसार, यह इस बात का संकेत था कि वह भविष्य में राजा बनेगा। चानिन नहीं चाहता था कि उसका बेटा घमंडी हो, इसलिए उसने चाणक्य के दांत तोड़ दिए। भिक्षुओं ने भविष्यवाणी की कि बच्चा सिंहासन के पीछे एक शक्ति बन जाएगा। चाणक्य बड़े होकर एक विद्वान श्रावक बने और उन्होंने एक ब्राह्मण महिला से विवाह किया। एक गरीब आदमी से शादी करने के लिए उसके रिश्तेदारों ने उसका मजाक उड़ाया। इसने चाणक्य को पाटलिपुत्र जाने और राजा नंद से दान लेने के लिए प्रेरित किया, जो ब्राह्मणों के प्रति अपनी उदारता के लिए प्रसिद्ध थे। शाही दरबार में राजा की प्रतीक्षा करते हुए चाणक्य राजा के सिंहासन पर विराजमान थे। एक दासी (नौकर लड़की) ने विनम्रतापूर्वक चाणक्य को अगली सीट की पेशकश की, लेकिन चाणक्य ने अपना कमंडल (पानी का बर्तन) उस पर रखा, जबकि सिंहासन पर बैठे रहे। नौकर ने उसे चार और सीटों के विकल्प की पेशकश की, लेकिन हर बार, उसने सिंहासन से हटने से इनकार करते हुए अपनी विभिन्न वस्तुओं को सीटों पर रखा। अंत में, नाराज नौकर ने उसे सिंहासन से हटा दिया। क्रोधित होकर, चाणक्य ने नंदा और उनकी पूरी स्थापना को उखाड़ फेंकने की कसम खाई, जैसे “एक महान हवा एक पेड़ को उखाड़ देती है”।चाणक्य जानते थे कि उन्हें सिंहासन के पीछे एक शक्ति बनने की भविष्यवाणी की गई थी। इसलिए, उन्होंने राजा होने के योग्य व्यक्ति की तलाश शुरू कर दी। घूमते-घूमते उसने एक ग्राम प्रधान की गर्भवती पुत्री के लिए इस शर्त पर उपकार किया कि उसका बच्चा उसी का होगा। इस महिला से चंद्रगुप्त का जन्म हुआ था। जब चंद्रगुप्त बड़ा हुआ, चाणक्य अपने गांव आए और उन्हें लड़कों के एक समूह के बीच “राजा” खेलते देखा। उसकी परीक्षा लेने के लिए चाणक्य ने उससे दान मांगा। लड़के ने चाणक्य को गायों को पास ले जाने के लिए कहा, यह घोषणा करते हुए कि कोई भी उनके आदेश की अवहेलना नहीं करेगा। शक्ति के इस प्रदर्शन ने चाणक्य को आश्वस्त किया कि चंद्रगुप्त राजा होने के योग्य था।

आचार्य चाणक्य द्वारा कहे गए कुछ अनमोल वचन….मूर्ख लोगों से कभी वाद-विवाद नहीं करना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से हम अपना ही समय नष्ट करते है.ऋण, शत्रु और रोग को कभी छोटा नहीं समझना चाहिए. …भगवान मूर्तियों मे नहीं बसता. …भाग्य भी उन्हीं का साथ देता है जो कठिन से कठिन स्थितियों में भी अपने लक्ष्य के प्रति अडिग रहते हैं.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.